इन 8 चीजों का खो जाना जीवन में दरिद्रता और निराशा लाता है

0

सोना और चांदी

भारत में सोना और चांदी, दो ऐसी धातुएं हैं जो सबसे अधिक इस्तेमाल होती हैं और इनकी मांग भी कभी खत्म नहीं होती। सोना कितना ही महंगा क्यों ना हो जाए, लेकिन हम भारतीय उसकी खरीद में कोई गिरावट नहीं आने देते। क्योंकि यह मात्र आभूषण ना होकर हम भारतीयों के लिए परंपरा का हिस्सा बन गया है।

भारत में प्रसिद्ध हैं ये आभूषण

शादी-ब्याह से लेकर छोटे-छोटे रिवाजों में सोने-चांदी के अभूषण या सिक्के तोहफे में देने की परंपरा है। इसके अलावा ज्योतिष उपायों के चलते इन्हें दान भी किया जाता है। इतना ही नहीं, हम भारतीय जब भी पैसा निवेश करने की सोचते हैं तो उसे सोना खरीदने में लगाना ही बेहतर मानते हैं, ताकि आगे चलकर यह बुरे वक्त में हमारे काम आए।

शास्त्रों में सोने-चांदी का महत्व

खैर यह मानसिकता कितनी सफल होती है और कितनी नहीं, यह दूसरी बात है। लेकिन हिन्दू शास्त्र सोने-चांदी से जुड़ी कई बातें बताते हैं जो हम सभी को पता होनी चाहिए, ताकि हम बड़े नुकसान से बच पाएं।

मां लक्ष्मी को है पसंद

शास्त्रों के अनुसार ‘सोना’ धन की देवी मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने का महत्वपूर्ण माध्यम है। इसलिए कुछ शुभ तारीखों पर सोना खरीदने की सलाह दी जाती है, जैसे कि अक्षय तृतीया या फिर दीवाली पर।

सोने से जुड़े शुभ संकेत

ऐसी मान्यता है कि शास्त्रों द्वारा बताई गई शुभ तिथियों पर सोना खरीदने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर-परिवार में सुख-समृद्धि फैलाती हैं।

छोटा सा उपाय

हिन्दू धर्म में सोने से संबंधित एक छोटी-सी मान्यता कहें या प्रथा, वह काफी प्रचलित है। कहते हैं जब भी सोना खरीदा जाए तो उसे घर लाकर इस्तेमाल करने से पहले मां लक्ष्मी के चरणों में रखना चाहिए। ऐसा करने से देवी प्रसन्न होती हैं और अपनी कृपा बनाए रखती हैं।

जब सोना सिद्ध हो अशुभ

किसी अशुभ तिथि पर सोना खरीदना बुरे परिणामों वाला माना जाता है। इसके अलावा सोना कहीं मिल जाना या खो जाना भी अपशकुन माना जाता है।

बृहस्पति ग्रह का कारक है सोना

दरअसल ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सोने को बृहस्पति ग्रह का कारक माना गया है। बृहस्पति (गुरु ग्रह) हमारी कुंडली में मार्गदर्शन करने वाले ग्रह का काम करता है।

कुंडली के रहस्य

यदि यह ग्रह कुंडली में शुभ स्थिति में विराजमान है तो जीवन सुख और खुशहाली के साथ बीतता है किंतु इसका अशुभ होना धीरे-धीरे नुकसान युक्त परिस्थितियों को जन्म देने लगता है।

सोना खो जाना है अशुभ

एस्ट्रोलॉजी के अनुसार यदि सोना खो जाए, तो मां लक्ष्मी के साथ गुरु ग्रह के प्रभाव को भी अशुभ बनाता है। लेकिन वह अशुभ परिस्थिति कैसी होगी यह इस बात पर निर्भर करता है कि सोना का कैसा आभूषण खोया है। तो चलिए आपको बताते हैं कि किस आभूषण के खोने से कैसा प्रभाव आता है।

Loading...

Leave a Reply